Publish with us

Follow Penguin

Follow Penguinsters

Follow Hind Pocket Books

Akelepan Par Vijay Kaise Payen aur Khush Kaise Rahen/अकेलेपन पर विजय कैसे पाएँ और ख़ुश कैसे रहें

Akelepan Par Vijay Kaise Payen aur Khush Kaise Rahen/अकेलेपन पर विजय कैसे पाएँ और ख़ुश कैसे रहें

Arun K Agrawal/अरुण के. अग्रवाल
Select Preferred Format
Buying Options
Paperback / Hardback

अकेलापन क्यों महसूस होता है? शायद आप अपने साथी के अलावा अन्य दोस्तों के साथ पर्याप्त समय नहीं बिता रहे हैं। आपको अपने साथी के साथ संचार संबंधी समस्याएं आ रही हैं। आपके साथी का व्यवहार विषाक्त हो सकता है, जिससे आपके लिए उनसे जुड़ना मुश्किल हो सकता है। क्या बस यही कारण हैं अकेलापन महसूस होने के या और भी हैं? यह पुस्तक अकेलेपन से निजात पाने एवं खु़श रहने के लिए ऐसा मार्ग सुझाती हे, जिस पर चलने से आपका जीवन पूरी तरह बदल सकता है।

Imprint: penguin swadesh

Published: Dec/2023

ISBN: 9780143456230

Length : 199 Pages

MRP : ₹299.00

Akelepan Par Vijay Kaise Payen aur Khush Kaise Rahen/अकेलेपन पर विजय कैसे पाएँ और ख़ुश कैसे रहें

Arun K Agrawal/अरुण के. अग्रवाल

अकेलापन क्यों महसूस होता है? शायद आप अपने साथी के अलावा अन्य दोस्तों के साथ पर्याप्त समय नहीं बिता रहे हैं। आपको अपने साथी के साथ संचार संबंधी समस्याएं आ रही हैं। आपके साथी का व्यवहार विषाक्त हो सकता है, जिससे आपके लिए उनसे जुड़ना मुश्किल हो सकता है। क्या बस यही कारण हैं अकेलापन महसूस होने के या और भी हैं? यह पुस्तक अकेलेपन से निजात पाने एवं खु़श रहने के लिए ऐसा मार्ग सुझाती हे, जिस पर चलने से आपका जीवन पूरी तरह बदल सकता है।

Buying Options
Paperback / Hardback

Arun K Agrawal/अरुण के. अग्रवाल

अरुण के. अग्रवाल ने व्यक्तित्व विकास पर दर्जनों पुस्तकें लिखी हैं। इन्हें समाजसेवा एवं लेखन के लिए कई प्रतिष्ठित पुरस्कार भी मिले हैं। व्यक्तित्व विकास को लेकर लेखन में इन्होंने जो पहचान बनाई है, वह इनके उत्कृष्ट लेखन का स्वयं परिचय कराती है।
रचना भल्ला इस पुस्तक की सह लेखिका हैं।  

error: Content is protected !!