Publish With Us

Follow Penguin

Follow Penguinsters

Follow Hind Pocket Books

Charu, Chivar Aur Charya/चरु, चीवर और चर्या

Charu, Chivar Aur Charya/चरु, चीवर और चर्या

Pradeep Dash/प्रदीप दाश
Select Preferred Format
<
Buying Options
Paperback / Hardback

यह ऐतिहासिक उपन्यास आठवीं सदी के भौमकर राजवंश की एक कहानी है। यह एक विराट आख्यान है, जिसमें बौद्ध धर्म का उसकी ऊँचाइयों को छूना, उसकी साधना एवं परंपरा तथा उसे मिल रहा राज्याश्रय और उसका क्षरण सभी शामिल है।
उड़िया से हिंदी में अनुदित चरु, चीवर और र्चया एक क्लासिक श्रेणी का उपन्यास है जिसके मूल उड़िया संस्करण को उड़िशा में प्रतिष्ठित सरला पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।   

Imprint: Penguin Swadesh

Published: Jan/2024

ISBN: 9780143466062

Length : 488 Pages

MRP : ₹450.00

Charu, Chivar Aur Charya/चरु, चीवर और चर्या

Pradeep Dash/प्रदीप दाश

यह ऐतिहासिक उपन्यास आठवीं सदी के भौमकर राजवंश की एक कहानी है। यह एक विराट आख्यान है, जिसमें बौद्ध धर्म का उसकी ऊँचाइयों को छूना, उसकी साधना एवं परंपरा तथा उसे मिल रहा राज्याश्रय और उसका क्षरण सभी शामिल है।
उड़िया से हिंदी में अनुदित चरु, चीवर और र्चया एक क्लासिक श्रेणी का उपन्यास है जिसके मूल उड़िया संस्करण को उड़िशा में प्रतिष्ठित सरला पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।   

Buying Options
Paperback / Hardback

Pradeep Dash/प्रदीप दाश

ओड़िशा राज्य सिविल सेवा के अधिकारी रहे प्रदीप दाश जाने-माने कथाकार हैं। सामाजिक-ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर आधारित दस कथा-संग्रह और चार वृहद उपन्यासों से प्रदीप दाश ने ओड़िआ साहित्य जगत में एक विशेष पहचान बनाई है। दाश का पहला कथा-संग्रह घूम पहाड़र नई सन् 1997 में प्रकाशित हुआ, जिसके कई संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं। दाश के अन्य कहानी संग्रह हैं बरबर, मीमांसा, ससेमिरा, राधा तमाळ, सुत उवाच, नवानी देहि, अरुंधतिरा आलुअ, पितृ प्रयाग और अर्घ्य।   

error: Content is protected !!