Publish with us

Follow Penguin

Follow Penguinsters

Follow Hind Pocket Books

One Sting Attached (Hindi)/Ishq Baaqi/इश्क़ बाक़ी

One Sting Attached (Hindi)/Ishq Baaqi/इश्क़ बाक़ी

Bichhad Ke Bhi Na Bichhde, Aise Saath Ke Naam/बिछड़ के भी न बिछड़े, ऐसे साथ के नाम

Pankaj Dubey/पंकज दुबे
Select Preferred Format
Buying Options
Paperback / Hardback

अयोध्या जैसे प्राचीन शहर में एक प्रेमी जोड़ा, शिवम और आईना, एक-दूजे के नज़दीक आने लगता है। फ़ारुक़ी परिवार की बेटी आईना बारहवीं की छात्रा है, तो श्रेष्ठ दर्ज़ी बनने की इच्छा रखने वाला शिवम एक प्रमुख मंदिर के महंत का बेटा। जिस दिन शिवम अपने प्यार के करीब पहुँचता है, उसी दिन वह शहर में हुए दंगों में अपना सब कुछ, अपने माता-पिता और अपनी नीली आँखों वाली प्रेमिका को खो देता है। …और पीछे बची रह जाती हैं सिर्फ दर्दनाक यादें।
खिन्न और टूटा दिल लिये हुए शिवम शहर की हलचल और अपने काम में खो जाने के लिए दिल्ली चला आता है। जब ज़िंदगी में ठहराव आने लगता है, तभी फिर से हवा के झोंके की तरह अतीत उसके सामने लौट आता है और उसे आभास होता है कि आईना ज़िंदा है। बड़ी मशक्कत से जुटाई गई जानकारी के साथ, शिवम अपने प्यार को पाने के लिए एक दुरूह यात्रा शुरू करता है, जो उसे आईना की तलाश में दुबई तक ले जाती है। शिवम और आईना की यह प्रेम कहानी एक बार फिर साबित करती है कि अगर किसी को शिद्दत से चाहो तो पूरी कायनात उससे मिलाने में लग जाती है।  

Imprint: Penguin Swadesh

Published: Feb/2024

ISBN: 9780143465829

Length : 232 Pages

MRP : ₹199.00

One Sting Attached (Hindi)/Ishq Baaqi/इश्क़ बाक़ी

Bichhad Ke Bhi Na Bichhde, Aise Saath Ke Naam/बिछड़ के भी न बिछड़े, ऐसे साथ के नाम

Pankaj Dubey/पंकज दुबे

अयोध्या जैसे प्राचीन शहर में एक प्रेमी जोड़ा, शिवम और आईना, एक-दूजे के नज़दीक आने लगता है। फ़ारुक़ी परिवार की बेटी आईना बारहवीं की छात्रा है, तो श्रेष्ठ दर्ज़ी बनने की इच्छा रखने वाला शिवम एक प्रमुख मंदिर के महंत का बेटा। जिस दिन शिवम अपने प्यार के करीब पहुँचता है, उसी दिन वह शहर में हुए दंगों में अपना सब कुछ, अपने माता-पिता और अपनी नीली आँखों वाली प्रेमिका को खो देता है। …और पीछे बची रह जाती हैं सिर्फ दर्दनाक यादें।
खिन्न और टूटा दिल लिये हुए शिवम शहर की हलचल और अपने काम में खो जाने के लिए दिल्ली चला आता है। जब ज़िंदगी में ठहराव आने लगता है, तभी फिर से हवा के झोंके की तरह अतीत उसके सामने लौट आता है और उसे आभास होता है कि आईना ज़िंदा है। बड़ी मशक्कत से जुटाई गई जानकारी के साथ, शिवम अपने प्यार को पाने के लिए एक दुरूह यात्रा शुरू करता है, जो उसे आईना की तलाश में दुबई तक ले जाती है। शिवम और आईना की यह प्रेम कहानी एक बार फिर साबित करती है कि अगर किसी को शिद्दत से चाहो तो पूरी कायनात उससे मिलाने में लग जाती है।  

Buying Options
Paperback / Hardback

Pankaj Dubey/पंकज दुबे

पंकज दुबे फ़िल्म निर्माता और द्विभाषी लेखक हैं। उनकी सभी किताबें–व्हाट अ लूज़र, इश्कियापा : टु हैल विद लव, लव करी और ट्रेडिंग इन लव पेंगुइन से प्रकाशित हुई हैं और हिंदी में भी उनकी ही लिखी हुई हैं।
आप अपने लेखन की चतुराई भरी हास्य शैली से सामाजिक-राजनीतिक अनदेखी प्रवृत्तियों पर दबाव बनाते हैं। आप लंदन में बीबीसी वर्ल्ड सर्विस के साथ बतौर जर्नलिस्ट काम कर चुके हैं। आपको 2016 में एशिया के तीन उपन्यासकारों में से सियोल आर्ट स्पेस, येओहुई, दक्षिण कोरिया में प्रतिष्ठित राइटर्स रेजीडेंसी के लिए भी चुना गया था। आपको 2018 में यूके की ब्रिटिश संसद, हाउस ऑफ लॉर्ड्स, में “साहित्य और कहानी” के लिए “ग्लोबल इनोवेंचर अवॉर्ड” से भी सम्मानित किया गया। पंकज दुबे को @carryonpd पर फॉलो किया जा सकता है और उनके बारे में अधिक जानकारी के लिए www.pankajdubey.in पर लॉगइन किया जा सकता है। 

error: Content is protected !!