Publish with us

Follow Penguin

Follow Penguinsters

Follow Penguin Swadesh

Shabdon ke Sath-Sath/शब्दों के साथ-साथ

Shabdon ke Sath-Sath/शब्दों के साथ-साथ

Janiye Kahan Se Kaise Aate Hain Shabd Aur Kya Hai Unka Sahi Prayog/जानिए कहाँ से कैसे आते हैं शब्द और क्या है उनका सही प्रयोग

Dr. Suresh Pant/डॉ. सुरेश पंत
Select Preferred Format
Buying Options
Paperback / Hardback

भाषा की कुंजी अब आपके हाथों में!
प्रमुख भाषाविद एवं भाषा विज्ञानी सुरेश पंत कई दशकों से भाषा से सम्बन्धित समस्याओं का समाधान करते आए हैं। सोशल मीडिया और ब्लॉग्स के माध्यम से भी वे समय-समय पर अपने भाषाई ज्ञान को सबके साथ साझा करते रहे हैं। यह पुस्तक उनके आजीवन हिंदी शिक्षण, प्रशिक्षण और उसके अनुप्रयोग से जुड़े अनुभवों का सार है।
हिंदी को बरतते हुए कई बार शब्दों की उत्पत्ति, उनकी वर्तनी, प्रयोग, दो समान शब्दों में अर्थ की भिन्नता, शब्द की विविध अर्थ छटाओं की समझ तथा इसी प्रकार की अनेक समस्याएँ सामने आती हैं। इन्हीं उलझनों को समझने और सुलझाने में आपकी मदद करेगी यह पुस्तक। साथ ही, आप पाएँगे पारम्परिक अर्थ और विविध सन्दर्भों में उनके प्रयोग, प्रचलित अर्थों में सूक्ष्म अन्तर, शब्द के पर्याय और आंचलिक स्वरूपों में उनकी विविधता।
यह पुस्तक हर वर्ग के हिंदी प्रेमी के लिए काम की है; विशेषकर हिंदी शिक्षण, अध्ययन, अनुवाद, मीडिया आदि से जुड़े कर्मियों और प्रतियोगी परीक्षाओं के अभ्यर्थियों के लिए व्यवहारिक कोश के समान उपयोगी। 

Imprint: Hind Pocket Books

Published: Mar/2023

ISBN: 9780143460138

Length : 304 Pages

MRP : ₹250.00

Shabdon ke Sath-Sath/शब्दों के साथ-साथ

Janiye Kahan Se Kaise Aate Hain Shabd Aur Kya Hai Unka Sahi Prayog/जानिए कहाँ से कैसे आते हैं शब्द और क्या है उनका सही प्रयोग

Dr. Suresh Pant/डॉ. सुरेश पंत

भाषा की कुंजी अब आपके हाथों में!
प्रमुख भाषाविद एवं भाषा विज्ञानी सुरेश पंत कई दशकों से भाषा से सम्बन्धित समस्याओं का समाधान करते आए हैं। सोशल मीडिया और ब्लॉग्स के माध्यम से भी वे समय-समय पर अपने भाषाई ज्ञान को सबके साथ साझा करते रहे हैं। यह पुस्तक उनके आजीवन हिंदी शिक्षण, प्रशिक्षण और उसके अनुप्रयोग से जुड़े अनुभवों का सार है।
हिंदी को बरतते हुए कई बार शब्दों की उत्पत्ति, उनकी वर्तनी, प्रयोग, दो समान शब्दों में अर्थ की भिन्नता, शब्द की विविध अर्थ छटाओं की समझ तथा इसी प्रकार की अनेक समस्याएँ सामने आती हैं। इन्हीं उलझनों को समझने और सुलझाने में आपकी मदद करेगी यह पुस्तक। साथ ही, आप पाएँगे पारम्परिक अर्थ और विविध सन्दर्भों में उनके प्रयोग, प्रचलित अर्थों में सूक्ष्म अन्तर, शब्द के पर्याय और आंचलिक स्वरूपों में उनकी विविधता।
यह पुस्तक हर वर्ग के हिंदी प्रेमी के लिए काम की है; विशेषकर हिंदी शिक्षण, अध्ययन, अनुवाद, मीडिया आदि से जुड़े कर्मियों और प्रतियोगी परीक्षाओं के अभ्यर्थियों के लिए व्यवहारिक कोश के समान उपयोगी। 

Buying Options
Paperback / Hardback

Dr. Suresh Pant/डॉ. सुरेश पंत

More By The Author

Shabdon Ke Sath Sath 2/शब्दों के साथ-साथ 2

Shabdon Ke Sath Sath 2/शब्दों के साथ-साथ 2

Dr. Suresh Pant/डॉ. सुरेश पंत
error: Content is protected !!